प्रो. उज्ज्वल के चौधरी मीडिया और समाज में समावेशिता को मजबूत करने के लिए बहुमूल्य सुझाव दिए

नोएडा: ICAN 5 के दूसरे दिन प्रोफेसर उज्जवल के चौधरी, सलाहकार और प्रोफेसर, डैफोडिल इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी, ढाका द्वारादक्षिण एशियाई मीडिया में समावेशिता: भारत, नेपाल और बांग्लादेश की स्थितिविषय पर एक मास्टर क्लास का आयोजन किया गया।

प्रो. चौधरी ने सामाजिक संदर्भ में समावेशिता की अवधारणा के बारे में बात की और इसे एक इच्छा के बजाय एक आवश्यकता कहा। उन्होंने कहा किहम सभी समाज के एक या दूसरे हिस्से में अल्पसंख्यक हैं …” और विभिन्न समुदायों के बीच संबंध बनाने की आवश्यकता पर जोर दिया।

मीडिया की भूमिका को रेखांकित करते हुए उन्होंने सभी रूपों में समावेशी और प्रयोगात्मक सामग्री की कमी पर जोर दिया। उन्होंने कहा, “जिस तरह राजनीतिक पार्टियों के लिए लोग उनके वोट बैंक होते है, उसी तरह मीडिया घरानों के के लिए लोग विशिष्ट दर्शक होते हैं, और इसलिए मीडिया सामग्री बेहद सीमित होती है,”

इस क्षेत्र में अपने विशाल अनुभव का परिचय देते हुए वरिष्ठ शिक्षाविद  ने बहुत स्पष्ट रूप से बताया कि कैसे साझा अनुभवों, एडवोकेसी और पहचान की भावना के माध्यम से सामाजिक समावेशन प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने भारतीय पत्रकारों को प्रशिक्षित करने में यूनिसेफ के प्रयास सहित कई मामलों का हवाला दिया।

प्रो. चौधरी ने मीडिया ओनरशिप के स्वरुप और सामग्री के संदर्भ में तुलना करने के लिए भारतीय, बांग्लादेशी और नेपाली मीडिया का उदाहरण दिया।नेपाल भारत की तुलना में बहुत छोटा देश है, लेकिन निजी एफएम चैनलों की संख्या बहुत अधिक है।उन्होंने समाचार प्रसारित करने के लिए निजी रेडियो चैनलों पर प्रतिबंध का उल्लेख करते हुए विशेष रूप से उसकी निंदा की

प्रो. चौधरी ने मीडिया में समावेशिता को मजबूत करने के लिए कुछ ठोस सुझाव दिए। उन्होंने बताया कि विकास संचार को अपनी जिम्मेदारी को पूरा करने के लिए मीडिया द्वारा सार्वजनिक मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए; झूठी सामग्री फैलाने से बचना चाहिए; और विविध पृष्ठ्भूमियों के लोगों वाले न्यूज़रूम को बढ़ावा देना चाहिए।चूंकि स्थानीय मीडिया में विशेष रूप से विविधता का अभाव है, यह अन्य समुदायों के प्रतिनिधित्व की कमी को उजागर करता है।

By Quick News

Leave a Reply

Your email address will not be published.