Attack Movie Review : जॉन अब्राहम की ये फिल्म हॉलीवुड के लिए चेतावनी !

अंशुल त्यागी || स्पाइडर मैन, सुपर मैन, बैट मैन और न जाने क्या-क्या..? इन सभी को फेल करने के लिए अब कमान भारतीय सिनेमा ने भी संभाल ली और अटैक (Attack) को देखने के बाद इसका एहसास आपको जरुर हो जाएगा। शाहरुख खान की रावन के बाद दोबारा एक आविष्कारिक कंटेट आपको देखने को मिलेगी। फर्क इतना है कि पहली में रोबोट ही था और इसमें यानी अटैक में इंसान के भीतर ही एक चीप लगाकर उसे सुपर सोल्जर बनाया गया है और वो सुपर सोल्जर को बनाने का काम सबा यानी रकुल प्रीत ने किया है जबकी खुद जॉन अब्राहिम को आप सुपर सोल्जर के रूप में देखेंगे।

अटैक फिल्म प्रमोशन के दौरान ली गई तस्वीर

क्या है फिल्म में खास ?

लगभग 2 घंटे 5 मिनट के आसपास की इस फिल्म की कहानी में जो सबसे अच्छा आपको लगने वाला है वो है इस फिल्म का कॉन्सैप्ट। जी हां ईरा यानी इंटैलिजैंट रोबोट असिसटैंट जो फिल्म में सुपर सोल्जर का किरदार निभा रहे जॉन अब्राहम को अलैक्सा, गूगल असिसटैंट की तरह गाइड करती है और जॉन के काम को बहुत आसान कर देती है। लेकिन ईरा की जरुरत जॉन को क्यों पड़ी और सबा ने केवल जॉन को ही वो चिप क्यों लगाई इसके लिए आपको मूवी देखने जाना पड़ेगा। 120 करोड़ के बजट से बनाई गई इस फिल्म को लक्ष्य राज आनंद ने डायरैक्ट किया है और उनके डायरैक्शन स्कील्स इस फिल्म के पिक्चराइजेशन में नज़र भी आए हैं, फाइटिंग सीन्स को कुछ नए तरीके से फिल्माने का प्रयास किया गया है जो फिल्म को बाकी फिल्मों से उसके कान्सैप्ट की ही तरह अलग बनाता है।

इसे भी पढ़ें – Dasvi : Abhishek Bacchan ने आगरा जेल में दिखाया पहला मूवी का शो !

जॉन अब्राहम के साथ फिल्म के डायरेक्टर लक्ष्य राज आनंद

कैसी है एक्टिंग ?

फिल्म में जॉन की एक्टिंग दमदार है लेकिन कहीं-कहीं पर जॉन का फेस एक्सप्रैशनलैस दिखता है तो वहीं रकुल प्रीत ने अपने किरदार को 100 प्रतीशत दिया है और उनका काम सराहनीय है वहीं, जैकलीन का जितना रोल इस फिल्म में है वो कहीं भी बोरियत महसूस नहीं करवाता है और उनकी अदाकारी बढ़िया है।

क्या है कमी ?

फिल्म में कमियों की बात करें तो फिल्म को देखने के बाद ऐसा लगता है कि शायद कुछ और सुधार इस फिल्म में किए जा सकते थे, जैसे थोड़ा होमवर्क और करके फिल्म को कम्प्लीट किया जा सकता था लेकिन क्योंकि ये पहला पार्ट है, अभी एक और पार्ट आना है तो हो सकता है उसमें ये होमवर्क पूरा हो जाए, इसके अलावा फिल्म में कोई बड़ी और खास कमी आपको शायद नज़र नहीं आएगी।

कितनी रेटिंग ?

फिल्म की रेटिंग की बात करें तो कान्सैप्ट को ध्यान में रखते हुए इसे 5 में से 3.5 स्टार देना बेहतर होगा।

बांए से जॉन, जैकलीन और लक्ष्य

इसे भी पढ़ें – Dasvi : Abhishek Bacchan ने आगरा जेल में दिखाया पहला मूवी का शो !

By Quick News

Leave a Reply

Your email address will not be published.